जिनके धड़ के ऊपर किसी पशु का मस्तक है वो कोन हैं

इस बार गणेश चतुर्थी का पर्व 19 सितंबर, मंगलवार को मनाया जाएगा। इस दिन घर-घर में भगवान श्रीगणेश की प्रतिमाओं की स्थापना की जाएगी। श्रीगणेश एकमात्र ऐसे देवता हैं, जिनके धड़ के ऊपर किसी पशु का मस्तक है यानी हाथी का। ऐसा क्यों है, किन कारणों के चलते श्रीगणेश के धड़ पर हाथी का मस्तक लगाया गया है। इस बारे में बहुत कम लोगों को पता है। आगे जानिए ये पूरी कथा क्या है

 

गणेश पुराण के अनुसार, एक बार देवी पार्वती ने स्नान करने के लिए उबटन बनाया। बाद में उसी उबटन से देवी पार्वती ने एक सुंदर पुतले का निर्माण किया और अपनी शक्तियों से उसमें प्राण डाल दिए थे। प्राण आते ही वह पुतला सजीव हो गया। माता पार्वती ने उसका नाम गणेश रखा और उसे अपना पुत्र के रूप में स्वीकार किया। देवी पार्वती ने कहा कि’तुम मेरे पुत्र हो और इसलिए मेरी ही आज्ञा का पालन करोगे।’ ये बोलकर देवी पार्वती स्नान करने चली गईं और गणेशजी से कहा कि किसी को भी अंदर मत आने देना।

क्या महादेव ने काटा गणेश का मस्तक?

कुछ देर बाद जब भगवान शिव वहां आए तो गणेशजी ने उन्हें भी बाहर ही रोक दिया और अंदर नहीं जाने दिया। भगवान शिव ने गणेश को बहुत समझाया लेकिन वे माता की आज्ञा का पालन कर रहे थे। पहले शिवजी ने अपने गणों को श्रीगणेश से युद्ध करने भेजा। उन सभी की गणेशा ने खूब पिटाई की। क्रोधित होकर भगवान शिव ने अपने त्रिशूल से गणेश का मस्तक काट दिया।

 

कौन लेकर आया था हाथी का सिर?

जब देवी पार्वती ने ये देखा तो वह रोने लगीं। माता पार्वती की ये स्थिति देख अन्य देवी-देवता भी दुखी हो गए। तब भगवान शिव ने कहा कि किसी अन्य पशु का मस्तक लाकर अगर गणेश के मस्तक पर लगाया जाए तो ये फिर से जीवित हो सकते हैं। तब भगवान विष्णु जंगल से हाथी का मस्तक काटकर लाए और उसे गणेश के धड़ के ऊपर स्थापित कर दिया। ऐसा होते ही गणेश जीवित हो गए। हाथी का सिर होने के कारण ही इन्हें गजानन भी कहते हैं।

 

 

 

http://www.sirafsachtv.com/archives/6547

 

http://www.sirafsachtv.com/archives/6561

 

http://www.sirafsachtv.com/archives/6563

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रमुख खबरे

hi Hindi
X
error: Content is protected !!
सिर्फ सच टीवी भारत को आवश्यकता है पुरे भारतवर्ष मे स्टेट हेड मंडल ब्यूरो जिला ब्यूरो क्राइम रिपोर्टर तहसील रिपोर्टर विज्ञापन प्रतिनिधि तथा क्षेत्रीय संबाददाताओ की खबरों और विज्ञापन के लिए सम्पर्क करे:- 8764696848,इमेल [email protected]